सियांश की रील और रियल लाइफ

By: Himani Bakhda

क्या आपने नीले सियार की वो प्रसिद्ध कथा सुनी है, जो नीले रंग के टब में गिर गया था और बाकी जानवर उसे भगवान समझने लगे थे। पर एक दिन जब वो गलती से अपनी असली आवाज़ में चिल्लाने लगा तो सभी को पता चल गया कि वह एक साधारण सियार है। वह पकड़ा गया और और उसे सज़ा भी मिली। आइए अब इस कहानी को एक टीनबुक ट्विस्ट के साथ पढ़ते हैं।

फोन की लत

"सियांश, तुम्हे नाश्ते के लिए देर हो रही है, जल्दी करो! स्कूल के पहले दिन तुम्हारी बस छूट जाएगी”, की माँ चिल्लाई।

"एक मिनट माँ", उसने जवाब दिया।

सियांश ने अपना फोन लिया और अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी की तरफ ध्यान देने लगा। उसने बहुत सी अलग अलग चीजों की तस्वीरें, जैसे कि सुबह का आसमान और स्कूल के कपड़ों में अपनी फ़ोटो अपलोड करना शुरू कर दिया। उसने अपनी नई घड़ी, अपना नाश्ता और कुछ और सेल्फी दिखाते हुए एक तस्वीर अपलोड की।

"क्या तुम अपना फ़ोन नीचे रख कर अपने परिवार के साथ खाना खा सकते हो?", उसकी माँ ने उसे डाँटा।

"उफ्फ माँ! मैं ये सब अपने साथ वालों के देखने के लिए डालता हूँ, वे मेरे जीवन के बारे में जानना पसंद करते हैं", सियांश ने चिढ़ कर कहा।

"तुम्हें स्कूल के लिए देर हो जाएगी, अपना स्कूल-बैग लो और जाओ, तुम्हारी बस यहाँ आती ही होगी", उसकी माँ अब वास्तव में परेशान हो गई थी।

"हाँ माँ, मैं जा रहा हूँ", सियांश ने भी गुस्से में कहा।

"अपना फोन टेबल पर रख दो, तुम्हें उसे स्कूल नहीं ले जाना है", उसकी माँ ने कहा।

"ठीक है माँ।"

पर सियांश चुपके से अपना फ़ोन स्कूल ले आया था। छुट्टी के दौरान वह अपने फोन से खेल रहा था। तभी सियांश ने अपने सहपाठी कबीर को सभी दोस्तों को अपनी कश्मीर ट्रिप की फोटोज़ दिखाते देखा। सभी उसकी तस्वीरों की बहुत तारीफ भी कर रहे थे।

नकली तस्वीरें

सारा ने कहा, "कबीर, तुम्हारी झील के किनारे की सारी तस्वीरें बहुत सुन्दर थी।"

"तुम्हारे कपड़े भी बहुत कूल थे", नील ने कहा।

सियांश को ये सब सुन कर जलन होने लगी। वो भी चाहता था कि गर्मियों की छुट्टियों में वो अच्छी अच्छी जगह घूमने जाए और कूल कपड़े पहने। तब वो भी अपने सोशल मीडिया पर ये सब पोस्ट कर पाता।

तब उसे एक उपाय आया। स्कूल के बाद वह घर वापस गया और एक ऐप डाउनलोड किया, जिसमें तस्वीरें फोटोशॉप करने की बहुत सी सुविधाएँ थी।

"सियांश, तुम क्या कर रहे हो?" उसकी बहन ने पूछा।

"मैं फोटोशॉप आज़मा रहा हूँ, आरना", ने अपने फ़ोन की तरफ देखते हुए जवाब दिया।

"मुझे दिखाओ", उसकी बहन उत्सुक थी।

फोटो में सियांश गोवा के समुद्र के किनारे खड़ा था। सियांश ने उस तस्वीर को असली जैसा बनाने के लिए उसमे कई सारे फ़िल्टर भी लगाए थे।

"सियांश, यह सही नहीं है। आप इस तरह सिर्फ अपने फॉलोवर और खुद को बेवकूफ बना रहे हैं”, आरना नाराज़ हुई।

"इतना कोई नहीं सोचता आना, किसी को कुछ पता नहीं चलेगा", सियांश ने आरना की बात परवाह नहीं की।

जल्द ही सियांशके पोस्ट लाइक और कमेंट्स से भर गए। उसके सभी सहपाठियों ने कहा कि वह कूल और मजेदार लग रहा था। सियांश के फॉलोअर्स भी बढ़े।

अब वह सारा दिन रील बनाने, सेल्फी पोस्ट करने और फोटो अपलोड करने में बिताने लगा। उसने उन किताबों के बारे में पोस्ट करना शुरू कर दिया जो उसने पढ़ी भी नहीं थीं, फिल्में जो उसने नहीं देखी थीं और जिन जगहों पर वह नहीं गया था, और ये सब सिर्फ कुछ फॉलोवर्स के लिए। वो धीरे धीरे ऐसा व्यक्ति बनता जा रहा था जैसा वो असल में नहीं था। और जल्द ही इसका असर उसके स्कूल के काम पर दिखने लगा।

"मुझे अकेला छोड़ दो"

"सियांश, तुम स्कूल में में पीछे होते जा रहे हो। तुम्हारा प्रदर्शन खराब है। अगर ऐसा ही चलता रहा तो हम तुम्हारा फोन ले लेंगे”, उसकी माँ ने गुस्से में कहा।

"प्लीज़ मुझे अकेला छोड़ दो, ठीक है!" सियांश ने माँ से विनती की।

अगले दिन स्कूल में सियांश अपने सहपाठियों से घिरा हुआ था, वे सभी उसके साथ सेल्फी लेना चाहते थे, और उसे बता रहे थे कि वह कितना कूल है।

फिर कबीर ने कक्षा में प्रवेश किया और कहा, "अरे सियांश, मेरी माँ ने कहा कि तुम्हारा परिवार इन गर्मियों में घर पर ही था, तो तुमने गोवा की तस्वीरें कैसे पोस्ट की?”

"ये तुम क्या कह रहे हो कबीर?" सियांश ने झिझकते हुए कहा।

कबीर ने कहा, "मुझे पता है तुमने इन तस्वीरों को फोटोशॉप किया है।"

कबीर ने सबको दिखाना शुरू किया कि फोटोशॉप ऐप कैसे काम करता है और कैसे सियांश ने सबको बेवकूफ बनाने की कोशिश की। सभी सियांश का मजाक उड़ाने लगे।

अचानक उनके क्लास टीचर अंदर आ गए। सभी ने तुरंत अपने फोन छिपा दिए। लेकिन टीचर ने का फोन देख लिया और उसे प्रिंसिपल के पास ले गए।

सियार की तरह?

"सियांश, मैं आपसे बहुत निराश हूँ! आपको इस पूरे सप्ताह के लिए निलंबित कर दिया गया है”, प्रिंसिपल ने उसे चेतावनी दी।

"मुझे बहुत खेद है सर, मैं यह गलती दोबारा नहीं करूँगा", सियांश ने रोते हुए कहा।

"सॉरी सियांश, लेकिन आपको नियम तोड़ने के लिए सज़ा दी जाएगी। हमने आपके माँ-पापा को बुला लिया है, वो आपको लेने आते ही होंगे”, प्रिंसिपल ने जवाब दिया।

सियांश के माता-पिता उससे बहुत नाराज थे और उन्होंने उसका फोन छीन लिया। सियांश ने खुद को कमरे में बंद कर लिया और रोने लगा। तब उसकी बहन उसे दिलासा देने आई।

"क्या मै तुम्हे एक कहानी सुना सकती हूँ सियांश?" आरना ने कहा।

"अभी नहीं", उसने रोते हुए बोला।

"मेरी बात तो सुनो। ये एक छोटी सी कहानी है। एक सियार नीले रंग के टब में गिर गया और दूसरे जानवर उसे भगवान समझ कर उसकी पूजा करने लगे। किसी को भी सच नहीं पता था और सभी उसे पवित्र मानते थे। एक दिन सियार भूलकर अपनी असली आवाज़ में चिल्लाने लगा और सबको पता चला गया की वो भी बस एक साधारण सा सियार है। वह पकड़ा गया और उसे सज़ा दी गई", आरना ने कहा।

"तुम्हारा मतलब क्या है आरना?" सियांश ने आखिरकार ऊपर देखा।

"उस सियार की तरह तुम भी फोटोशॉप और सोशल मीडिया फिल्टर के धोखे से बस लोगों की वाहवाही बटोर रहे थे। तुम ऐसे नहीं हो। और अगर आपको सच में लोगों का प्यार चाहिए तो बस अपनी तरह रहो", आरना ने कहा।

"लेकिन कैसे? कोई भी मुझे मेरी तरह पसंद नहीं करता है। लेकिन जब मैं उन फोटोशॉप्ड तस्वीरों को पोस्ट करता हूँ, तो बहुत सारे लोग मेरे पास आते हैं", सियांश अभी भी निराश था।

"तुम ने सही कहा। लेकिन यह सब थोड़े दिन की बात होती है। जैसे ही सच पता चलेगा, जो कभी न कभी तो सामने आएगा ही, वो सब तुम्हारा मज़ाक उड़ाएँगे! है ना? सोशल मीडिया लोगों से जुड़ने में मदद करता है। यह खुद को व्यक्त करने में मदद करता है। तो तुम वो तस्वीरें शेयर क्यों नहीं करते जिनमे तुम सच में खुश हैं, जैसे जो समय तुमने अपने दोस्तों और परिवार के साथ बिताया। या शायद अपनी आर्ट भी, जिसमे तुम बहुत अच्छे हो। लोग यह देखना पसंद करेंगे कि सियांश असली कैसा है”, आरना ने उसे समझाया।

"ठीक है, क्या तुमको सच में लगता है कि कोई इसे पसंद करेगा?" सियांश ने भ्रमित स्वर में पूछा।

"हम हमेशा कोशिश कर के देख सकते हैं। और अगर वो नहीं भी करते हैं तो ये कोई अंत तो नहीं है ना? तुम्हे अपने सोशल मीडिया की दुनिया से बाहर आना होगा और सच्चे दोस्त बनाने होंगे। कोई ऐसा जो तुम्हे प्यार करे तुम्हारे सोशल मीडिया को नहीं”, आरना ने कहा।

"अच्छा, ठीक है, अगर तुम कह रही हो तो। मै अपनी गलती को ठीक करने की कोशिश करूँगा”, सियांश ने कहा।

आरना ने मुस्कुराते हुए सुझाव दिया, "तुम ये शुरुआत माँ-पापा से माफ़ी माँग कर क्यों नहीं करते?" सियांश वापस मुस्कुराया और माफी माँगने और अपने माता-पिता से बात करने के लिए कमरे से निकल गया।

फोटो: शटरस्टॉक/Ranta Images/गोपनीयता का ध्यान रखते हुए नाम बदल दिए गए हैं और फोटो में मॉडल् हैं  

क्या आप हमारे लिए #TwistInTheTale लिखना चाहते हैं? अपने विचार हमें कमेंट बॉक्स में भेजें! याद रखें, कोई भी व्यक्तिगत जानकारी कमेंट बॉक्स में न डालें।

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0