header image

दिशा से पूछें

मेरे दोस्त मेरे कपड़ों का मज़ाक उड़ाते हैं

मेरे दोस्त मेरे फैशन सेंस का मजाक उड़ाते हैं। मैं कोशिश करती हूँ कि इसे मज़ाक़ में ही लूँ पर मुझे बहुत बुरा लगता है। मुझे क्या करना चाहिए? तृषा, 16, भोपाल।

दोस्त, सच में?

मै तुम्हारी समस्या तो समझ गई हूँ तृषा, पर मैं इसमें से ‘दोस्त’ शब्द को अनदेखा करना चाहूँगी क्योंकि कोई भी दोस्त अपने दोस्तों को इस तरह बुरा महसूस नहीं कराता है। कुछ ज़्यादा ड्रामा हो गया क्या? पर सच यही है दोस्त!

तो मेरी सबसे पहली सलाह होगी, अपने दोस्तों से बात करो। क्योंकि हो सकता है उन्हें सच में ये मज़ाक लगता हो और ये एहसास ही ना हो कि वो तुम्हे ऐसा कर के चोट पहुँचा रहे हैं। तो उनसे बिना मज़ाक के इस बारे में बात करो वरना उन्हें उनकी गलती का एहसास नहीं होगा और वह इसे मज़ाक में उड़ा देंगे। 

उन्हें बताओ की उनका ये ‘मज़ाक’ तुम्हे अच्छा नहीं लगता और तुम चाहती हो कि वो आगे से ऐसा ना करें। नया ज़माना है दोस्त! अगर वो सच में तुम्हारे अच्छे दोस्त होंगे तो वो ज़रूर समझेंगे। और अगर नहीं तो, ये नकली दोस्ती का दरवाज़ा तोड़ कर, रन तृषा रन

कुछ तो गड़बड़ है दया! 

अगर उन्हें सच में इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि वो इस “मज़ाक” के लिए तुम्हे बुरा महसूस करा रहे हैं, तो तुम्हे भी उनकी कोई ज़रूरत नहीं है। ऐसा रिश्ता तो ज़हरीला है ना यार, दूसरों को बुरा महसूस कराना और फिर इसे ‘मज़ाक’ का नाम देना।   

किसी को भी अपनी ज़िंदगी में इस तरह के व्यव्हार की ज़रूरत नहीं है। और हाँ, तुम इसमें अपनी गलती तो बिलकुल भी मत ढूँढ़ना। पता है क्यों? क्योंकि है ही नहीं! अरे बाबा सच में इसमें तुम्हारी कोई गलती नहीं है। बस उनकी वजह से अपना मज़ा किरकिरा मत करो और तुम्हे जो पसंद है वो पहनो। 

तुम बस लूना लवगुड (वही हैरी पॉटर वाली) को देखो दोस्त। उसने कभी भी किसी और की बातों का खुद पर असर नहीं होने दिया, हैना? चाहे कोई उसको कुछ भी बोले, वो बस वही करती थी जो उसे अच्छा लगता था। और तुम्हे भी यही करना है।

अपना आत्मविश्वास बनाये रखें

कपड़े चाहे कैसे भी हो, सबसे ज़्यादा ज़रूरी होती है उसके साथ की मुस्कान और तुम्हारा आत्मविश्वास। तो इन तानों और मज़ाक को खुद पर हावी मत होने दो। अगर तुम्हारे पास ये दोनों सामग्री है तो फिनाले डिश अच्छी ही बनेगी। 

अगर तुम्हे वो पसंद है तो उसे पुरे विश्वास और स्वैग  के साथ पहनो। दूसरे क्या कहते हैं इससे हमे क्या करना! तुम अपनी तरह रहो और रास्ते में नए नए दोस्त बनाती चलो, वो भी अच्छे वाले 😉

अगर आपका भी कोई सवाल या डाउट है, तो हमसे पूछिए। भारत की सबसे समझदार अडल्ट,आपकी अपनी दिशा, उन सभी सवालों का जवाब देगी! उन्हें नीचे कमेंट बॉक्स में पोस्ट करें या उन्हें हमारे इंस्टा इनबॉक्स में भेजें! दिशा अपने अगले कॉलम में उनका जवाब देगी। याद रखें कि कोई भी व्यक्तिगत जानकारी यहाँ न डालें।  और दिशा YouTube पर चेक करना मत भूलना, एक दम एक्शन में!  

#दिशासेपूछें एक सलाह कॉलम है जो कि टीनबुक इंडिया की संपादकीय टीम द्वारा चलाया जाता है। कॉलम में दी गई सलाह विज्ञान पर आधारित है लेकिन सामान्य है। माता-पिता और किशोरों को विशिष्ट चिंताओं या मुद्दों के लिए किसी विशेषज्ञ से मदद लेनी चाहिए।

 

एक टिप्पणी छोड़ें

आपकी ईमेल आईडी प्रकाशित नहीं की जाएगी। अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *

टैग

#AskDisha #canteentalk #दिषासेपूछ exam pressure safety stress teamwork आकर्षण कमिंग आउट कहानीमेंटविस किशोरावस्था कैंटीन टॉक क्रश गर्लफ्रेंड या बॉयफ्रेंड बनाने का दबाव जीवन हमेशा के लिए बदलने वाल टीनएज लव ट्रांसजेंडर डाइवोर तनाव दबाव दर्दनाक पीरियड्स दिशा से पूछें परीक पहली किस का दबाव #एक्सपर्टसेपूछें पीरियड्स पीरियड्स में दर पीरियड्स में दर्द के कारण प्यार प्यार में धोखा प्रेशर बुलइंग मम्मी-पापा अलग हो रहे ह मम्मी-पापा का डाइवोर माहवारी में दर मेरे बॉयफ्रेंड ने मुझे चीट किआ यौन उत्पीड़न यौन शिक्षा यौनिकता शिक्षक यौवन लड़कियों को अकेले बाहर जाने की अनुमति क्यों नहीं दी जाती ह लड़कों और लड़कियों के बीच अलग-अलग व्यवहार किया जाता ह लड़कों के साथ अलग-अलग व्यवहार क्यों किया जाता ह लड़कों को हर तरह से मजा क्यों करना चाहिए सभी दोस्तों की गर्लफ्रेंड या बॉयफ्रेंड ख़राब मूड