'लॉकडाउन में मैंने क्या सीखा?'

By: Aditya S.

'जैसे ही लॉकडाउन शुरू हुआ, अचानक ही मेरे पास अथाह समय था और मुझे समझ नहीं आया कि मैं उसका क्या करूँ? दोस्तों के साथ (ऑनलाइन) समय बिताने और रचनात्मक एक्टिविटीज ने मेरी बहुत मदद की', आदि (15 ) ने अपनी लॉकडाउन डायरी टीनबुक के साथ साझा की।

लॉकडाउन में मैंने क्या सीखा

स्कूल (ना) पसंद हैं

लॉकडाउन मेरे लिए एक अजीब अनुभव रहा है। हालांकि मुझे स्कूल नहीं जाना होता, फिर भी काम पहले से कही अधिक तनावपूर्ण हो गया हैं। मैं एक शेड्यूल रखने की कोशिश करता हूं, लेकिन बोरियत वास्तव में मुझे सबसे बुरी लगती है। मेरे लॉकडाउन वाले दिन छिटपुट परिवर्तनों, रचनात्मक झलकियों और बोरियत के रंगीन विस्तार से भरे हुए हैं।

यह कहना कि मुझे स्कूल की याद आती है, शायद सबसे सटीक बात होगी। स्कूल के बिना, मैं अपने दोस्तों से मिलकर बात करने में असमर्थ हूँ और यह उत्पादकता (प्रोडक्टिविटी) और नए विचारों के लिए मुश्किल हो सकता है। मैं स्कूल में बहुत कुछ सीखता हूँ, जो ऑनलाइन क्लासेज में कभी नहीं हो सकता। स्कूल वास्तव में मेरी सोशल लाइफ और मेरी उत्पादकता लिए एक खुला प्रवेश द्वार है और उस द्वार का न होना निराशाजनक हैं।

हालाँकि मैं स्कूल के लिए रोज़ाना जल्दी उठना और घंटो तक वहाँ रहना बिलकुल मिस नहीं कर रहा हूँ। महामारी से पहले, मैं दस घंटे से अधिक समय तक स्कूल में था, जो मेरे लिए मानसिक रूप से थकान भरा था। कभी स्कूल टीम के लिए परेड या कभी तैराकी की तैयारी में लगा रहता और इन सब गतिविधियों से कभी फुर्सत ही नहीं मिलती थी।

समय का महासागर

इसलिए जब लॉकडाउन शुरू हुआ, अचानक ही मेरे पास अथाह समय था और मुझे समझ नहीं आया कि मैं उसका क्या करूँ। यह मेरे लिए रोमांचक था और मैंने कुछ विचारों पर काम करना शुरू किया। मैंने एक चैट सर्वर शुरू किया, जहां मैं और मेरे दोस्त एक साथ वीडियो गेम खेल सकते हैं। हम मूवी नाइट्स के लिए एक साथ जुड़ गए, एक-दूसरे के बारे में नई चीजें सीखीं और आखिरकार हम ऑनलाइन रहने वाले एक छोटे परिवार जैसे हो गए थे। एक लंबे समय के बाद यह मेरा सबसे पॉज़िटिव एक्सपीरियंस था।

एक और अच्छा अनुभव मेरा नया रचनात्मक प्रवाह हैं। मैंने अपने पूरे कमरे को फिर से डिजाइन किया और मुझे काम करने के लिए एक मॉनिटर भी मिला। एक शौकीन फोटोग्राफर होने के नाते, मैंने रंग, प्रकाश और गुणवत्ता के बारे में कई नई चीजें सीखीं। मैं और मेरे दोस्तों ने एक फोटो ब्लॉग पर साथ काम किया (जाहिर है कि एक दूसरे से दूर रहकर) और हमने कुछ सुंदर और रचनात्मक फोटोग्राफी की। 

कुछ खट्टा, कुछ मीठा 

लॉकडाउन में बोरियत तो हुई, लेकिन मेरे लिए यह एक माध्यम था नई चीजों का पता लगाने और उन्हें एक्सपीरियंस करने का। मैंने अपने बारे में बहुत सी नई चीजें सीखी हैं और जिन लोगों से मैं बहुत प्यार करता हूँ उनसे एक नए अंदाज़ में जुड़ने मौका भी मिला। परिवार, दोस्तों और (सबसे महत्वपूर्ण) खुद के साथ समय बिताना मेरे जीवन में कभी बहुत महत्वपूर्ण नहीं रहा। उम्मीद है इस कठिन समय में मुझे सीखने और परिपक्व होने का मौका मिलेगा। 

आपके लॉकडाउन के दिन कैसे बीत रहे हैं? अपना एक्सपीरियंस नीचे कमेंट बॉक्स में शेयर करें। याद रखें कभी भी कोई पर्सनल इनफार्मेशन कमेंट बॉक्स में ना लिखें

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0