मिशन और विज़न

परिचय

टीनबुक का प्राथमिक लक्ष्य किशोरों में ज्ञान, कौशल और व्यवहार निर्माण करना है जो उन्हें व्यस्क जीवन के लिए सक्षम बनाएंगे, ताकि वो अपने जीवन की दिशा स्वयं नियंत्रित कर सकें और अपने सुविज्ञ निर्णय ले सकें।

हमारी सारा कंटेंट सावधानीपूर्वक माता-पिता और शिक्षकों के लिए डिज़ाइन किया गया है और इसका उद्देश्य किशोरों के साथ उनके संबंधों और कम्युनिकेशन की क्वालिटी को मजबूत करने के लिए जानकारी देना और मार्गदर्शन प्रदान करना है।

अनुसंधान के साथ अनुभव के संयोजन और एक मानव केंद्रित डिजाइन दृष्टिकोण का उपयोग करते हुए, हमने जीवन कौशल शिक्षा के लिए एक व्यापक दृष्टिकोण विकसित किया है। यही दृष्टिकोण टीनबुक पर बनायी सामग्री का मार्गदर्शक है। 

हमारी सभी सामग्री माता-पिता और शिक्षकों के लिए सावधानीपूर्वक डिज़ाइन की गई है और इसका उद्देश्य किशोरों के साथ उनके संचार और संबंधों की गुणवत्ता को मजबूत करने के लिए जानकारी और मार्गदर्शन प्रदान करना है।

हमारा कार्यक्रम भारत सरकार के राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्य (RKSK) की गाइडलाइन्स फॉलो करता हैं।

हमारा मिशन

किशोरों को ज्ञान और जीवन कौशल प्रदान करना जो उन्हें सूचित निर्णय लेने में मदद करेगा; ताकि वो सचेत रहें;  स्वस्थ रहें; और अपनी जिज्ञासाओं को सही दिशा में ले जाएं जिसके फलस्वरूप इनकी व्यस्क्ता खुशनुमा, स्वस्थ और सुरक्षित हो।

हमारी परिकल्पना 

एक अग्रिनी पहल जो किशोरों, उनके शिक्षकों, माता-पिता और सभी अन्य हितधारकों के साथ मिलकर उन्हें अधिकार जागरूक, सटीक और व्यापक जीवन कौशल पर आधारित शिक्षा प्रदान कर सके ताकि वो अपने जीवन को आत्म-विश्वास, हर्ष और अच्छे स्वास्थ्य के साथ बिताने के लिए सशक्त हो सकें। 

हमारे आदर्श

हर किसी का अधिकार:

  • सुरक्षित, समर्थ और सम्मिलित महसूस करना,
  • स्वीकृति और सम्मान की सही समझ
  • किसी भी शर्म, कलंक और भेदभाव के बिना अपनी भावनाओं को व्यक्त करने का सामर्थ्य
  • ज़िम्मेदारी पूर्ण निर्णय लेने की समझ, और खुद पर और दूसरों पर इन निर्णयों के संभावित परिणाम की सही परख। 

 

टीनबुक सामग्री को निम्नलिखित तीन क्षेत्रों पर ढांचा गया है:

  • सामाजिक अधिगम
  • स्वास्थ्य और कल्याण
  • संज्ञानात्मक विकास

टीनबुक पर प्रकाशित सामग्री सामाजिक और भावनात्मक शिक्षण के सिद्धांतों पर आधारित है (SEL):

क्रिएट: इस सिद्धांत का उद्देश्य योजनाबद्ध तरीक़ों से बच्चों के लिए पोषण, देखभाल और सुरक्षित वातावरण बनाना है।

एकीकरण: इस सिद्धांत की कुंजी शैक्षणिक और गैर-शैक्षणिक संवाद में जीवन कौशल शिक्षा को शामिल करना है।

संचार: यह सिद्धांत पूरे समुदाय को ध्यान में रखते हुए इस बात पर जोर देता है कि हमें सभी हितधारकों के साथ जल्दी और अक्सर संवाद करना चाहिए। 

निर्देश: इस सिद्धांत का उद्देश्य सामाजिक और भावनात्मक ज्ञान को भी अन्य सभी विषय क्षेत्रों की ही तरह स्पष्ट और नियोजित निर्देश के द्वारा सिखाए जाने पर बल देना है। 

श्रमता: इस सिद्धांत का उद्देश्य किसी भी सामाजिक-भावनात्मक शिक्षा के निर्देशात्मक योजना के मूल में जाना है: छात्रों को स्वयं सामाजिक और भावनात्मक ज्ञान अर्जित करने सशक्त बनाना। 

इन सिद्धांतों और जीवन कौशल शिक्षा के लिए एक व्यापक दृष्टिकोण के आधार पर, हम माता-पिता, शिक्षकों, संस्थानों और समुदायों को आवश्यकता-आधारित प्रशिक्षण प्रदान करते हैं। अधिक जानकारी के लिए, कृपया हमें info@teenbook.in पर लिखें।

This site uses cookies. By continuing to browse the site you are agreeing to our use of cookies Find out more here