‘मैंने अपने कोविड क्वारंटाइन का कैसे सामना किया’

By: Abhimanyu R

आजकल हर कोई वायरस के नाम से डरता है, सब जगह बस यही सिखाया जा रहा है कि कोरोना से कैसे बचना है, पर अभिमन्यू हमें बताएंगे कि उसका सामना कैसे करना है। जी हाँ, खुद अभिमन्यु से सुनिए कि उन्होंने अपना कोविड-क्वारंटाइन कैसे बिताया।

मैंने अपने कोविड क्वारंटाइन का कैसे सामना किया(चित्र में व्यक्ति एक मॉडल है) 

ये बीमारी दोहरी दुविधा  साथ आती हैं क्यूंकि इन्फेक्शन के साथ आता है क्वारंटीन। और ये सिर्फ आपकी एनर्जी ही नहीं लेता बल्कि सारा दिन एक ही जगह बैठा कर बोर भी कर देता है!

तो मेरा सबसे पहला मंत्र था, जितना मेरा मन खुश होगा, शरीर भी उतना ही खुश होगा, और ये उतनी ही जल्दी ठीक भी होगा! अरे नहीं नहीं मै आपको किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस नहीं दे रहा हूँ। जब भी आप बीमार महसूस करें, पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें। और सबसे ज़रूरी बात, अपनी मर्ज़ी से दवाई ना लें।

ये मेरे अनुभव के कुछ टिप्स हैं जो आपके काम आ सकते हैं अगर कोविड आपके घर आता है:  

सबसे ज़रूरी है आराम!

मै उनमे लडकों में से हूँ जो कभी नहीं थकते नहीं थे। बल्कि मेरे मम्मा-पापा को तो मुझे ज़बरदस्ती सुलाना पड़ता था। पर अब मै अपने शरीर की सुनकर उसे बहुत सारा आराम दे रहा हूँ। एक बार क्लास शुरू होने के बाद आपको ऐसा मौका नहीं मिलेगा। खूब सारा पानी भी पिया, साँस लेने की एक्सरसाइज की और अपने मन को खुश रखा!

जब आप अस्वस्थ होते हैं, या इस वायरस के शिकार होते हैं, आपके लिए आराम करना बहुत ज़रूरी है, और उन लोगों के लिए जो मेरी तरह एक जगह पर ज़्यादा देर नहीं बैठ पाते हैं, ये और भी ज़रूरी है। याद रखें, की ये आराम ही आपकी कैद को जल्दी खत्म कर आपकी नॉर्मल ज़िंदगी वापस लाने में मदद करेगा। इसलिए जितना अधिक आप आराम करेंगे, उतना कम समय आपको आराम करना होगा। 

और एक ज़रूरी बात - व्हाट्सएप यूनिवर्सिटी से मिले लेक्चर पर बिल्कुल ध्यान ना दें! जो मैसेज इन फॉरवर्ड के रूप में विश्वसनीय लगते हैं, आप सभी जानते हैं, वे अनजाने में आपको चोट पहुँचा सकते हैं। अगर आप यह देखने के लिए उत्सुक हैं कि इस मुश्किल समय में आपकी क्या मदद हो सकती है, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें। आप चाहे तो वायरस के बारे में रीसर्च भी कर सकते हैं, पर याद रखें सिर्फ ऊपरी जानकरी ही लें क्योंकि आप जितनी गहराई में जाएंगे, उतने ही परेशान भी होंगे! 

आप और क्या कर सकते हैं? मेरे पास पूरी लिस्ट तैयार है! अपनी पसंद और सुविधा के अनुसार चुनें:

सब कुछ छोड़ कर बस सपने देखो!

हाँ ये सुनने में थोड़ा पकाऊ लगता है, पर सच में ये बहुत मददगार है। आराम का समय सपने देखने के लिए सबसे अच्छा होता है चाहे फिर वो खुली आँखों से ही क्यों न हो। सपने आपको आपकी भावनाओं और लाइफ के बारे में सोचने का मौका देते हैं, और सपने आपके दिमाग को शांत करने में भी मदद कर सकते हैं।

एक किताब

पढ़िए! किताबे पढ़ना हमेशा से मेरा पसंदीदा काम रहा है। और अगर आपको पढ़ना नहीं भी पसंद, तो अपनी कोई पुरानी फेवरेट किताब उठाकर, उसके साथ समय बिताइए। वैसे भी किताबें हर प्रकार की होती हैं आप अपनी पसंद की इनसाइक्लोपीडिया भी पढ़ सकते है। तो बस एक किताब उठाइये और शब्दों की दुनिया में खो जाइये!

दोस्तों और परिवार से बात करें!

अपने घर के एक कमरे में रहना बहुत मुश्किल हो सकता है, यह जानकर कि बाहर की दुनिया आपका इंतजार कर रही है, और यह कि आपका अपने परिवार से भी संपर्क टूट गया है! जाहिर है आप उनसे मिलना चाहते हैं, उनके भले के लिए आप ऐसा नहीं कर सकते। और इसलिए भले ही यह सामने से मिलने के समान नहीं है, एक वीडियो कॉल आपको बहुत बेहतर महसूस करा सकती है। और वैसे भी मुझे और मेरे भाई को ऐसे बात (और थोड़ी बहुत लड़ाई) करने में बहुत मज़ा आता है।

लॉन्ग डिस्टेंस बोर्ड गेम खेलें!

लूडो जैसे बोर्ड गेम क्लासिक हैं, और ये महामारी भी उसे हरा नहीं सकती। हालांकि मज़ा थोड़ा किरकिरा हो सकता है, और आपको अलग-अलग डाइस का उपयोग करने जैसी सावधानी बरतनी पड़ सकती है, यह गारंटी है कि एक गेम आपके मन को खुश कर सकता है।

वो शो देखें!

समय आ गया है वो मूवी/डॉक्यूमेंट्री देखने का जो आपके एक्साम्स की वजह से छूट गयी थी। आप अपने दोस्तों के साथ एक मूवी नाइट एन्जॉय करो (हाँ हाँ ऑनलाइन) फिर आप सब साथ में हँस कर मूवी के मज़े ले सकते हैं। 

वीडियो गेम खेलें!

यही वो समय है जब आपके मम्मा-पापा भी इसके लिए मना नहीं करेंगे! आप अपना कुछ समय वीडियो गेम खेलने में लगा सकते हैं। शायद 30-45 मिनट का खेल - और वह निश्चित रूप से आपको खुश करेगा।

अभिमन्यु पेपरलेस प्रेस के में लेखक, सह-संपादक और के सह-प्रकाशक हैं। पेपरलेस प्रेस छात्रों द्वारा प्रकाशित समाचार पत्रिका है और पॉजिटिव और मन खुश कर देने वाली न्यूज़ छापती हैं। इसे thepaperlesspress.net पर देखें! यह लेख पहली बार पेपरलेस प्रेस में प्रकाशित हुआ था। मूल लेख दो पार्ट में लिखा गया  था। मूल लेख यहाँ और यहाँ पढ़ें।

वो शो देखें

क्या आप अपनी भावनाओं को टीनबुक से शेयर करना चाहेंगे? अपने विचार हमें कमेंट बॉक्स में भेजें! याद रखें, कोई भी पर्सनल जानकारी कमेंट बॉक्स में न डालें।

What's Your Reaction?

like
0
dislike
1
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0